Top 10 Small Moral Stories In Hindi नैतिक कहानियाँ 2020

Small Moral Stories In Hindi:- Here I'm sharing with you the top 10 Small Moral Stories In Hindi which is really amazing and awesome these Small Moral Stories In Hindi will teach you lots of things and gives you an awesome experience. You can share with your friends and family and these moral stories will be very useful for your children or younger siblings.

Top 10 Small Moral Stories In Hindi

Top 10 Small Moral Stories In Hindi 2020


स्वार्थी दानव New Small Moral Stories In Hindi


New Small Moral Stories In Hindi



बहुत समय पहले एक दानव था जिसका एक बहुत सुंदर बाग था। वह बाग की बहुत देखभाल करता था। एक बार वह अपने मित्र के घर गया।

वापस आने पर उसने देखा कि बच्चे उसके बाग में खेल रहे थे। उसने बुरी तरह बच्चों को डांट कर भगा दिया और बाद में बाग के चारों ओर ऊंची-ऊंची दीवार बना दी।

वह बहुत स्वार्थी हो गया था। कई मौसम आए और गए परंतु दानव के बाग में पतझड़ छाया रहा। चिड़ियों और कीड़ों ने भी उसके बाग में जाना बंद कर दिया।

एक सुबह दानव ने चिड़ियों की मीठी चहचहाहट सुनी। उसने खिड़की से झांक कर देखा, चिड़िया उसके बाद के बाहर खेल रही थी।
यह देखकर वह बहुत दुखी हुआ और उसे अपनी भूल का एहसास हुआ। तब उसने दीवार तोड़ दी और बच्चों को अपने बाग में बुलाया और कहा-"प्यारे बच्चो, यह तुम्हारा बाप है, तुम यहाँ देखें।" दानव अब नम्र हो गया था और खुश था।

Related:-

माचिस वाली लड़की Latest Small Moral Stories In Hindi

Latest Small Moral Stories In Hindi

एक छोटी गरीब लड़की थी जो माचिस बेचा करती थी। सर्दी की एक शाम वह उदास खड़ी थी क्योंकि उसकी एक भी माचिस नहीं बिकी थी।

उसने अपने ठंडे हाथों को गरमाहट देने के लिए एक माचिस की तीली जलाई। उसकी रोशनी में उसे क्रिसमस का एक सुंदर पेड़ दिखा।

अचानक वह तीली बुझ गई। उसने दूसरी तीली जलाई जिससे अचानक हर तरफ उजाला हो गया। उसी समय उस लड़की ने अपनी दादी को अपने सामने खड़ा पाया।

उसकी दादी बहुत खुश दिखाई दीं। लड़की ने अपनी दादी से कहा-"प्यारी दादी, मुझे अपने साथ ले चलो।" दादी ने उसे गले लगा लिया और उसे एक महल में ले गई।

महल में ज़रा भी ठंड नहीं थी। ऐसा लगता था जैसे वहाँ कोई भूखा या दुखी नहीं था। वह महल वास्तव में स्वर्ग था और उसकी दादी एक परी थी।
Related:-

मूर्ख कछुआ In Hindi Small Moral Stories

In Hindi Small Moral Stories

किसी जंगल में एक कछुआ रहता था। वह हमेशा उड़ पाने के ख्याल में खोया रहता था। पक्षियों को आकाश में उड़ता देख उसे बड़ी जलन होती थी।

न उड़ पाने के कारण वह खुद को बहुत छोटा समझता था। एक दिन उसने एक चील से उसे उड़ना सिखाने के लिए कहा। चील उसकी बात सुन हैरान हो कर बोलो-

"तुम कैसे उड़ सकते हो, तुम्हारे पँख नहीं हैं।" कछुआ नहीं माना और चील से उड़ना सिखाने के लिए विनती करने लगा। वह नासमझी में बोला-"मुझे पता है कि उड़ना कोई मुश्किल काम नहीं है।

तुम सिर्फ एक-दो उड़ने की तरकीब बता दो।" हार कर चील को कछुए की बात माननी पड़ी। उसने कछुए को अपने पंजों में उठा लिया और उड़ने लगा।
जब वह कछुए को लेकर बहुत ऊँचाई पर पहुँच गया तो उसने कछुए को छोड़ दिया। कछुआ गिर गया और मर गया।

Related:-

अधिक शक्तिशाली कौन? Unique Small Moral Stories In Hindi

Unique Small Moral Stories In Hindi

एक बार ऐसा हुआ कि एक आदमी और एक शेर साथ-साथ सफर कर रहे थे। दोनों आपस में बात कर रहे थे कि दोनों में कौन ज्यादा शक्तिशाली हैं।

जल्दी ही दोनों अपनी-अपनी तारीफ करने लगे। आदमी ने कहा कि वह सबसे शक्तिशाली है और शेर बोला कि उससे ज्यादा ताकतवर इस दुनिया में कोई नहीं है।

झगड़ते हुए वे एक चौराहे पर पहुंचे। वहाँ एक मूर्ति लगी थी, जिसमें एक आदमी एक शेर को मार रहा था। आदमी शेर से बोला-"यह मूर्ति देखो, इससे यह साबित हो है।

जाता है कि आदमी शेर से ज्यादा शक्तिशाली है।" "इतनी जल्दी नतीजे पर आने की ज़रूरत नहीं है। ऐसा सिर्फ तुम्हारा सोचना है।

अगर शेर मूर्ति बनाना जानता तो इस मूर्ति में शेर की जगह आदमी होता और आदमी की जगह शेर।"-शेर ने मुस्कराते हुए कहा। शेर की बात सुन कर आदमी कुछ न बोल सका और वे दोनों आगे का सफर तय करने के लिए चल पड़े।

Related:-

नन्हा हिरण और शिकारी Best Small Moral Stories In Hindi

Best Small Moral Stories In Hindi

एक दिन एक नन्हे हिरण को बहुत सुन्दर मैदान दिखा। एक भेड़ों का झुंड वहाँ पर चर रहा था। वह नन्हा हिरण भी वहाँ चरने लगा।

इस बीच एक शिकारी उस नन्हे हिरण को टकटकी लगाए देख रहा था। शिकारी ने जैसे ही नन्हे हिरण को अकेला पाया, उसने उसे पकड़ लिया।

शिकारी उसे खींच कर कसाई की दुकान में ले जाने लगा। नन्हा हिरण ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने लगा और खुद को शिकारी के चंगुल से छुड़ाने की कोशिश करने लगा।

एक भेड़ ने उसके चीखने की आवाज़ सुनी तो कठोरता से बोली-"हमें भी रोज़ चरवाहा खींच कर ले जाता है, परंतु हम तो विरोध नहीं करते।"

इस पर नन्हे हिरण ने कहा-"हम दोनों की परिस्थितियों में बहुत फर्क है। तुम्हें चरवाहा सिर्फ ऊन के लिए ले जाता है, परन्तु मुझे यह शिकारी मेरे माँस के लिए ले जा रहा है।"

ऐसा कह कर नन्हे हिरण ने खूब जोर लगाया और शिकारी की पकड़ से छूट कर भाग गया।

Related:-

कौआ और साँप Small Moral Stories In Hindi For Kids

Small Moral Stories In Hindi For Kids

एक बार एक जंगल में एक कौआ रहता था। वह कीड़े-मकोड़े और मरे हुए जानवर खाकर अपना पेट भरता था। एक दिन उसे खाने के लिए कुछ भी नहीं मिला।

वह दिन भर भूखा इधर-उधर खाना ढूंढता रहा, परंतु उसे खाने के लिए कुछ भी नहीं मिला। तभी अचानक एक पेड़ के नीचे उसे एक सोया हुआ साँप दिखा।

कौए को लगा वह साँप मरा हुआ है। उसके मुँह में पानी आ गया। उसने साँप को अपने पंजों से उठा लिया। वह एक अच्छी जगह की तलाश में उड़ने लगा, जहाँ पर बैठ कर वह उसे खा सके।

इसी बीच साँप की नींद टूट गई। अपने आपको कौए के पंजों में पाकर साँप को बहुत गुस्सा आया और उसने कौए को काट लिया।

कौआ दर्द के कारण उड़ नहीं पाया और ज़मीन पर गिर पड़ा। मरते-मरते उसने सोचा-"हाय रे मेरी फूटी किस्मत! आज मेरी भूख ने ही मेरी जान ले ली।

Related:-

बेचारा केकड़ा Amazing Small Moral Stories In Hindi For Students

Amazing Small Moral Stories In Hindi For Students

एक समय की बात है समुद्र के किनारे एक छोटा केंकड़ा रहता था। वह भोजन की तलाश में इधर-उधर भटकता रहता था।

एक दिन भोजन की तलाश करते हुए उसे एक हरा-भरा घास का मैदान मिला। उसे वह घास का मैदान बहुत पसंद आया। उसने अपना घर छोड़ कर वहीं बसने का फैसला कर लिया।

वह समुद्र का किनारा छोड़ कर घास के मैदान में रहने चला गया उसने सोचा कि वहाँ उसे बहुत भोजन मिलेगा। उसी समय एक दुष्ट लोमड़ी घास के मैदान से गुजर रही थी।

लोमड़ी ने छोटे केंकड़े को देखा तो उसे केंकड़े को खाने का मन हुआ। वह कपड़े के पास गई और उस पर झपट पड़ी। उसने केंकड़े को मँह में दबोच लिया।

अब जल्दी ही बेचारा केकड़ा लोमड़ी का भोजन बनने वाला था। वह बोला-"मैं इसी लायक हूँ। मैं समुद्र के किनारे अपना घर छोड़ कर यहाँ आ गया। जो जहाँ का है उसे वहीं रहना चाहिए।"

Related:-


बुद्धिमान शेर In Hindi Animals Small Moral Stories

In Hindi Animals Small Moral Stories

एक बार एक जंगल में एक शेर रहता था। वह उस जंगल का राजा था। एक दिन उसे खबर मिली कि पास के जंगल का शेर उसके जंगल में हमला करने वाला है।

युद्ध होने जा रहा था इसलिए उसने जानवरों की एक बैठक बुलाई। राजा शेर अपने सभी मंत्रियों के साथ युद्ध की योजना बनाने लगा।

उसका एक मंत्री बोला-"महाराज, हमें युद्ध में अपने साथ गधे और खरगोश को नहीं ले जाना चाहिए। ये दोनों किसी काम के नहीं हैं।

गधा बहुत ही मूर्ख है और खरगोश बहुत अधिक डरपोक।" इस पर शेर ने कहा-" नहीं, ऐसा नहीं है, दोनों ही हमारे काम आ सकते हैं।

गधे के पास मुझसे भी ज्यादा बुलंद आवाज़ है। वह हमारी ओर से युद्ध की घोषणा कर सकता है। दूसरी ओर खरगोश बहुत तेज भागता है वह हमारे लिए संदेश ले जाने का काम कर सकता है।

हमें लोगों की योग्यता के अनुसार काम लेना आना चाहिए।" कभी भी किसी को छोटा नहीं समझना चाहिये।

Related:-

चतुर कसाई Awesome Small Moral Stories In Hindi

Awesome Small Moral Stories In Hindi

एक बार की बात है दो चोर थे। दोनों ने एक कसाई की दुकान में चोरी करने की योजना बनाई। एक चोर खरीदारी के बहाने से कसाई की दुकान में गया।

उसने चुपके से थोड़ा मांस चुरा कर दूसरे चोर को दे दिया। परन्तु कसाई बहुत चालाक था। उसने देखा कि दुकान में कुछ मांस कम हो गया है।

उसे पूरा विश्वास था कि उन्हीं दोनों ने चोरी की है। जिस चोर ने अपने पास मांस छुपा रखा था वह बोला-"मैं कसम खाता हूँ मैंने मांस नहीं चुराया।"

तब कसाई को एक उपाय सूझा। उसने कहा-"जिसने भी मांस चुराया है, वह यहाँ से कुछ मांस ले जा सकता है, और जिसके भी पास चुराया हुआ मांस है, वह भी थोड़ा मांस रख सकता है।"

कसाई का उपाय काम आया। मांस के लोभ में दोनों चोरों ने अपना-अपना अपराध स्वीकार कर लिया। तब कसाई ने दोनों चोरों की खूब पिटाई की और उनसे चोरी किया हुआ मांस छीन लिया।

Related:-

गाने वाली बुलबुल और उल्लू Birds Small Moral Stories In Hindi

Birds Small Moral Stories In Hindi

एक बार की बात है कहीं एक पिंजरे में एक गाने वाली बुलबुल रहती थी। वह केवल रात को ही गाती थी। वहीं पास के पेड़ पर एक उल्लू भी रहता था।

उल्लू ने देखा बुलबुल हमेशा रात में ही गाती थी। एक दिन उल्लू से रहा न गया। वह बुलबुल के पास गया और बोला-" तुम हमेशा रात में ही क्यों गाती हो?"

बुलबुल अपनी मीठी आवाज में बोली-" जब इस घर के मालिक ने मुझे पकड़ा था तब दिन का समय था। तब से मैं बहुत सतर्क हो गई हूँ।

इसलिए अब मैं केवल रात में ही गाती हूँ।" "क्या तुम्हें द्वारा पकड़े जाने का डर है?" उल्लू ने हैरान हो कर पूछ। “अब तुम्हें डरने की ज़रूरत नहीं है।

तुम्हें पकड़े जाने से पहले सतर्क रहना चाहिये था। अब कोई फर्क नहीं पड़ता, चाहे तुम रात में गाना दिन में।" यह कह कर उल्लू उड़ गया।

Related:-

Post a Comment

0 Comments